VLSI क्या है? इसकी खोज किसने की | VLSI in Hindi

VLSI-in-Hindi

Image Source – Google | Image by –Wikimedia/ CANVA

दोस्तों, आज कि इस Post में हम बात करने वाले है कि VLSI क्या होता है, VLSI का इतिहास, VLSI का फुल फॉर्म क्या होता है चलिए समझते है VLSI in Hindi, VLSI Design Flow, VLSI Chip की डिजाइन, VLSI की खोज किसने की? चलिए समझते है
VLSI क्या है(VLSI in Hindi)
यदि मैं आपको short में बताऊ कि VLSI क्या है? VLSI एक INTEGRATED CIRCUIT (IC)
बनाने की प्रक्रिया है जिसमे एक सिंगल चिप में हजारों Transistor का use किया जाता है 
VLSI की शुरुआत 1970 के दशक में  हुई थी जब semiconductor और communication technologies तेजी से अपने पैर पसार रही थी.
माइक्रोप्रोसेसर एक VLSIउपकरण का उदाहरण है.
जैसा कि आप सभी को पता होगा कि पिछले कुछ दशकों में electronics industry में बहुत तेजी से Growth देखने को मिली है जिसका मुख्य कारण तेजी से बढ़ी technologies और सिस्टम के द्वारा तैयार की गयी applications है.
जैसे ही Market में VLSI आया वैसे ही high-performance computing, controls, दूरसंचार, image and video processing, and consumer electronics में बहुत तेजी से बढ़त देखने को मिली.
VLSI की शुरुआत से पहले ज्यादातर काम ICs तक सीमित थे। एक Electronic circuit में एक सीपीयू, रोम, रैम और अन्य glue logic शामिल होते थे. 
आज से लगभग 45 साल पहले चिप में पाए जाने वाले Transistor की संख्या इसकी उच्चतम संख्या से 10,000 से कम थी.
VLSI के द्वारा आप इन ICs डिजाइनरों को एक chip में जोड़ सकते है.
VLSI मे आपको Low bit-rate video और High-resolution, cellular communication, Processing power और portability की सुविधा मिलती है. भविष्य में VLSI में और बढ़त देखने को मिल सकती है

VLSI Full form

VLSI का फुल फॉर्म VERY LARGE-SCALE INTEGRATION (VLSI) होता है जिसका हिंदी में मतलब “बहुत बड़े पैमाने पर एकीकरण (वीएलएसआई)” होता है

VLSI Design Flow in Hindi

आप VLSI का IC circuit Designप्रवाह नीचे दी गयी फोटो में देख सकते है इसमें अलग अलग स्तर दिखाए गए है
VLSI-design-flow-hindi
आम तौर पर, VLSI chip की Design प्रक्रिया में तीन चरण होते हैं
  1. Practical
  2. Logic circuit
  3. Layout test

Practical representation

व्यवहार प्रतिनिधित्व पूरे VLSI Design प्रवाह का पहला चरण है. इस स्तर पर, Device की कार्यक्षमता को specify करना महत्वपूर्ण है कि यह exterior के साथ कैसे संवाद करने वाला है.
Device के व्यवहार को परिभाषित करने के लिए एक Hardware Description Language (HDL) जैसे Verilog HDL या VHDL का उपयोग किया जाता है.

Layout representation

अंतिम चरण में, Design का physical layout बनाया जाता है। process फर्श की योजना के साथ शुरू होती है जो chip के कोर और रूटिंग क्षेत्रों को परिभाषित करती है.
Design को अनुकूलित करने के लिए, Building blocks को उनके सर्वोत्तम स्थानों पर व्यवस्थित और उन्मुख किया जाता है। इस process को Placement के रूप में जाना जाता है.
एक बार यह पूरा हो जाने के बाद, Building blocksको Interconnect करने के लिए एक Routing process की जाती है.

Logic Circuit representation

HDL code सफलतापूर्वक simulated होने के बाद, standard cell libraries से functional blocks का उपयोग logic circuit को represent करने और डिजाइन के व्यवहार प्रतिनिधित्व को संश्लेषित करने के लिए किया जाता है.
एक बार Design सत्यापित हो जाने के बाद, गेट स्तर की Netlist उत्पन्न होती है। Design के Layout को विकसित करने के लिए Netlist आवश्यक है.

VLSI का इतिहास (VLSI History in Hindi)

Transistor की खोज 1920 के दशक में हुई. इसकी खोज से पहले कई लोग ऐसा उपकरण बनाना चाहते थे जो current को ठोस अवस्था वाले Diode में बदलना चाहते थे फिर उसे Triode में बदलना चाहते थे। उनका ये काम Transistor ने किया.
जब Radar detectors के रूप में सिलिकॉन और जर्मेनियम क्रिस्टल के उपयोग के निर्माण और सिद्धांत में सुधार किया.
इसे Second World War के बाद तेजी से पहचान और सफलता मिली.
1947 में Bell labs ने पहले Transistor के आविष्कार किया और साथ ही, Electronics का क्षेत्र वैक्यूम ट्यूबों से solid-state devices में बदल गया.
1950 के दशक के कई Electrical engineers ने Circuit के उजागर भविष्य की निर्माण की संभावनाओं को देखा लेकिन बाद में जैसे-जैसे Circuit की जटिलता बढ़ी, समस्याएं पैदा होना शुरू हो गयी.
जिसके कारण 1960 के दशक के प्रारंभ में small-scale integration (SSI) और 1960 के दशक के medium-scale integration (MSI) की खोज हुई.

VLSI in Hindi

VLSI का निर्माण MOS Transistor की जगह लेने के लिए किया गया था. इसका निर्माण 1959 में Mohamed M. Atalla और Dawon Kahng द्वारा Bell labs में किया गया था.
Mohamed M. Atalla ने 1960 में में पहली बार MOS integrated circuit chip का idea सुझाया। 1961 ने Dawon Kahng द्वारा भी इस पर काम करना शुरू किया.
इसे integrated circuits के लिए Useful बनाया. पहले Semiconductor chips में दो Transistor होते थे. बाद के जरुरतनुसार अधिक Transistor जोड़े गए

निष्कर्ष

आज की इस post में हमने बात की VLSI क्या है, VLSI in hindi, VLSI का इतिहास, VLSI Design Flow, VLSI Chip की डिजाइन, VLSI की खोज किसने की?
यदि आपको आज की post अच्छी लगी है तो इसे अपने दोस्तों के साथ और social media पर share जरूर करे। आपको आपको कैसी लगी हमे comment करके जरूर अपनी राय दे. 

Leave a Comment