100% Working Tips : वेबसाइट की स्पीड कैसे बढ़ाये?

आज कि इस पोस्ट में हम जानेंगे कि ब्लॉग या वेबसाइट की स्पीड कैसे बढ़ाये. यदि आप एक ब्लॉगर है या एक वेब डेवलपर है या फिर एक वेबसाइट ओनर तो आप भली भाती जानते होंगे कि एक वेबसाइट की स्पीड आपके बिज़नेस पर क्या प्रभाव डालती है. 

जरा सोचिये आपने एक बहुत अच्छी वेबसाइट बनाई है बेहतरीन थीम यूज़ की, बेहतरीन लेआउट तैयार किया और बेहतरीन तरीके से कस्टमाइज भी किया।. आपकी वेबसाइट का इंटरफ़ेस भी यूजर फ्रेंडली है.

यहाँ तक कि आपका कंटेंट भी बहुत अच्छा है जो लोगो की मदद करता है लेकिन आपकी साइट में एक कमी है कि वो बहुत देर से लोड होती है. क्या आप बता सकते है कि इससे आपके बिज़नेस पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

विश्वास मानिये आपका बिज़नेस और रेवेन्यू 80-90% तक कम हो सकता है. शायद 100% भी. क्युकि आपका बिज़नेस तभी सक्सेस है जब यूजर आपकी साइट पर आये और वो आपके कंटेंट का लाभ उठाये लेकिन यदि आपकी साइट की स्पीड ही बहुत बेकार है तो यूजर को काफी इंतज़ार करना होगा तब कही वो खुलेगी.

एक लिमिट से ज्यादा टाइम लेने पर यूजर आपकी साइट को छोड़कर किसी दूसरे की साइट पर चला जायेगा.

वेबसाइट की स्पीड बेकार होना सर्च इंजन में रैंकिंग डाउन होने का कारण बन सकता है. इसलिए आज मैं आपको ऐसी 100 Working Tips दूंगा जिससे आप जान पाएंगे कि website ki speed kaise badhaye.

Table of Contents

ब्लॉग या वेबसाइट की स्पीड कैसे बढ़ाये?

Best Fast Web Hosting का उपयोग करे

वेबसाइट कि स्पीड डाउन होने का सबसे पहला कारण है. ख़राब वेब होस्टिंग का यूज़ करना.

अक्सर देखा गया है कि नए ब्लॉगर या वेबसाइट ओनर सस्ती और फ्री होस्टिंग के पीछे भागते है. अक्सर वो सस्ते के चक्कर में एक बेकार होस्टिंग को चुन लेते है जो कि उनकी साइट डाउन होने का कारण बनती है.

उन बेकार होस्टिंग का सर्वर रिस्पॉन्स देने में बहुत समय लेता है. जिससे आपकी साइट डाउन हो जाती है। Server Response Time 220 MS से ज्यादा नहीं होना चाहिए।

होस्टिंग चुनते समय कुछ चीजों को जरूर चेक कर ले जैसे वो कंपनी आपको कितना Bandwidth, SSD Storage, Up time, Users Visit Monthly, Backups दे रही है. कोशिश यही करे कि आप ये चीजे unlimited ले. 

आपको कम से कम  हर 15 दिन में आपकी साइट का बैकअप जरूर लेना चाहिए. यदि आपकी साइट पर ज्यादा कंटेंट है तो आप daily backup या weekly backup की तरफ भी जा सकते है.

होस्टिंग चुनते समय ध्यान रखे कि वो होस्टिंग कंपनी 100% या 99% uptime जरूर दे रही हो, Bandwidth, Storage, Users Visit Monthly आप जरुरतनुसार चुन सकते है.

HTTP Requests को कम करे

जब आप होस्टिंग खरीद लेते है तो आपकी साइट उस होस्टिंग सर्वर में स्टोर की जाती है. जब भी कोई यूजर आपकी साइट पर आता है और आपके पोस्ट को एक्सेस करता है. जिसमे कई चीजे होती है जैसे फोटो, वीडियो, टेक्स्ट, ads और कोई अन्य फाइल.

जब भी यूजर आपकी पोस्ट पर आता है वो सभी चीजे सर्वर से लोड होती है. तब जाके कही यूजर को शो होती है. यदि आपने बहुत ज्यादा इन चीजों का यूज़ किया हुआ है तो इस बात में आपको कोई शक नहीं होना चाहिए कि ये साइट की स्पीड को स्लो कर देंगी। क्युकि यहाँ पर HTTP Requests बहुत ज्यादा होगी.

कोशिश यही करे कि इन्हे जितना कम हो सके उतना कम यूज़ करे। यदि आपकी होस्टिंग बहुत अच्छी है तो वो जल्दी से जल्दी फोटो, वीडियो, टेक्स्ट, ads या फिर किसी अन्य फाइलो को सर्वर से लोड कर के यूजर के सामने लाएगी. मतलब तब इन चीजों की वजह से स्पीड कम होने के चांस बहुत कम हो जाते है.

Must read 👉 15+ Tips वेबसाइट ट्रैफिक को कैसे बढ़ाये

ब्लॉग या वेबसाइट की स्पीड कैसे चेक करे 

ब्लॉग या वेबसाइट की स्पीड की स्पीड चेक करने के लिए इंटरनेट पर कई टूल्स मौजूद है जैसे

ब्लॉग या वेबसाइट की स्पीड कितनी होनी चाहिए 

आपके ब्लॉग या वेबसाइट की स्पीड 3 सेकंड से ज्यादा नहीं होनी चाहिए यदि 3 सेकंड से ज्यादा है तो आपको स्पीड कम करने की जरुरत है.

विजिटर के अनुसार होस्टिंग सर्वर चुने 

यदि आपके ब्लॉग के विजिटर भारत से है तो आप अपना होस्टिंग सर्वर वही चुने जो भारत में है। आपके विजिटर से जितना ज्यादा दूर सर्वर होगा आपकी साइट को लोड होने में उतना अधिक समय लगेगा.

इससे आपके SFTP स्पीड और वर्डप्रेस डैशबोर्ड की रेस्पॉन्सिव नेस पर प्रभाव पड़ता है.

Files को कंप्रेस रखे

जैसा कि आपको पता है कि हम सब अपने ब्लॉग पोस्ट में फोटो, वीडियो, टेक्स्ट, ads और कोई अन्य फाइल को यूज़ करते है. लेकिन हम एक चीज हर बार भूल जाते है इन फाइल्स को कंप्रेस करना. कंप्रेस करने का मतलब है इन फाइल्स के साइज को कम करना.

कंप्रेस करने में आपकी फोटो, वीडियो, टेक्स्ट या फिर कोई अन्य फाइल पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है मतलब कि वो जैसे कंप्रेस करने के पहले दिखती थी अब भी वैसी ही दिखेगी. बस उनका साइज कम हो जायेगा.

आज के समय में इंटरनेट पर कई सारे कंप्रेस टूल्स मौजूद है. और यदि आप एक वर्डप्रेस यूजर है तो आपको वहां पर कई सारे प्लगिन मिल जाते है इन्हे जरूर यूज़ करे.।

फालतू का डाटा और स्लो plugin को हटा दे.

यदि आप सच में अपनी साइट या ब्लॉग की स्पीड बढ़ाना चाहते है तो अपने ब्लॉग से स्लो plugins और यूज़ में न आने वाले डाटा को हटा दीजिये. आपको इंटरनेट पर कई सारे plugins और टूल्स मिल जायेंगे जो आपके इस काम में मदद कर सकते है.

Database को Optimize करे 

जब भी हम अपनी साइट पर कोई भी एक्टिविटी करते है तो वो हमारे Database में स्टोर हो जाती है जैसे पोस्ट को अपडेट करना, प्लगइन को ऐड या डिलीट करना आदि. जरा सोचिये मैंने अपनी पोस्ट में कुछ अपडेट किया तो मुझे नए अपडेट से मतलब होगा न कि पहले मेरी पोस्ट में पहले क्या था.

वो पुराना डाटा मेरे किसी काम का नहीं है. ये सब फालतू डाटा Database में जगह घेरता है.

Database एक ऐसी जगह होती है जहा हमारी साइट का हर एक डाटा एक कलेक्शन के रूप में स्टोर होता है इसकी वजह से ही हम अपने डाटा को आसानी से एक्सेस और मैनेज कर पाते है.

यदि हमारा डेटाबेस फालतू के डाटा से भर जायेगा तो जाहिर सी बात है. हम अपने इम्पोर्टेन्ट डाटा को जल्दी से एक्सेस नहीं कर पाएंगे इसलिए हमे इस फालतू  डाटा को समय पर डिलीट कर देना चाहिए. ये डाटा Revision Server में स्टोर होता है. इस चीज को करने के लिए आपके पास थोड़ा बहुत टेक्निकल नॉलेज होना चाहिए. इसे करने से पहले साइट का बैकअप जरूर ले.

यदि आप एक वर्डप्रेस यूजर है तो आपको वहां पर कई प्लगइन मिल जायेंगे या आप WP-Optimize plugin को भी यूज़ कर सकते है.

होटलिंकिंग को बंद करे.

हॉट लिंकिंग का मतलब है कि यदि कोई व्यक्ति आपके ब्लॉग पर यूज़ की गयी इमेज का यूआरएल कॉपी करके अपने ब्लॉग में यूज़ कर रहा है. मतलब जब भी कोई यूजर उसकी साइट पर आएगा तो वो इमेज आपके सर्वर से लोड होक उसकी साइट में दिखेगी। जो कि एक गलत बात है.

इससे आपके सर्वर की bandwidth और रेसौर्सेस यूज़ हो रहे है. इससे आपकी साइट स्लो हो जाएगी। हॉट लिंकिंग को डिसेबल करने के लिए htaccess file को एडिट करे या "All in One WP Security and Firewall" जैसे plugin को यूज़ करे.

how-to-increase-website-speed-in-hindi

पेज बिल्डर प्लगइन को हटा दे 

आप अपने वर्डप्रेस डैशबोर्ड से पेज बिल्डर को हटा दीजिये. आज के समय में हम लोग कई पेज बिल्डर यूज़ करते है जैसे Elementor, beaver builder, Themify Builder, Divi Builder, Thrive Architect etc.

ये भी हमारी साइट स्पीड को कम करते है.

Cache और कूकीज enable करे 

अपनी साइट पर cache और कूकीज enable करे. इससे क्या होगा कि जब भी कोई यूजर आपकी साइट पर आएगा तो भले ही उसे पहली बार में ज्यादा टाइम लगे लेकिन अगली बार कम टाइम लगेगा.

क्युकि वो अक्सेस्सिंग डाटा स्टोर हो जाता है जो यूजर के दुबारा विजिट करने पर काम आता है. इससे साइट जल्दी लोड हो जाती है. आप इसे इनेबल जरूर करे.

यदि caching की बात करे तो सबसे बेस्ट plugin - WP Rocket है. दूसरे नंबर पर W3 Total Cache और तीसरे नंबर पर WP Super Cache है.

Light Weight Theme का उपयोग करे

Light Weight Theme का मतलब है हल्की थीम को यूज़ करे जिनका साइज बहुत कम हो लगभग न के बराबर। अक्सर देखा गया है कि बड़ी साइज की थीम वेबसाइट की स्पीड को स्लो कर देती है.

वर्डप्रेस यूजर Astra, generatepress, OceanWP, Kadence जैसी लाइट वेट थीम यूज़ कर सकते है. वही ब्लॉगर प्लेटफॉर्म यूज़ करने वाले magify, newspaper जैसी लाइट वेट थीम यूज़ कर सकते है.

फालतू plugins को हटा दे

अक्सर देखा गया है नए नए वर्डप्रेस यूजर बहुत सारी plugin इनस्टॉल कर लेते है उनमे काफी उनके काम के भी नहीं होते है फिर भी वो उन्हें रखते है जिसका परिणाम ये होता है कि इससे उनकी वेबसाइट की स्पीड स्लो हो जाती है.

यदि आप भी इन्ही यूजर में से एक है तो आज ही फालतू के plugins को हटा दीजिये. मैं जानता हु प्लगइन आपके काम को आसान बनाती है लेकिन यदि कोई ऐसा काम है जो बिना प्लगइन के हो सकता है तो आप वहां plugin को बिल्कुल यूज़ न करे.

कम Widgets और Popups का उपयोग करे.

जब भी आप अपनी वेबसाइट को डिज़ाइन करे तो आप उसका डिज़ाइन सिंपल ही रखे लेकिन आकर्षित रखे। आकर्षित रखने का मतलब यहाँ पर ये नहीं है कि उसमे फालतू की चीजों को जोड़ दे जैसे पॉप उप, टाइमर या और कोई Widgets जो आपके या आपके यूजर के किसी काम का नहीं है ये बस आपकी साइट को स्लो करेंगी.

वीडियो एम्बेड करे 

यदि आपको कोई यूट्यूब या अन्य ऑनलाइन वीडियो प्लेटफॉर्म में कोई वीडियो पसंद आती है और आप उसे अपने ब्लॉग पोस्ट में लगाना चाहते है तो आप उसे कभी भी डाउनलोड करके न लगाए इससे दो नुकसान है.

पहला पोस्ट स्लो हो सकती है फालतू का स्टोरेज भरता है. दूसरा कॉपीराइट का इशू आ सकता है लेकिन यदि आप उसी वीडियो को एम्बेड करते है तो आपको कोई प्रॉब्लम नहीं आएगी.

HTML, CSS और JavaScript कोड को मिनीमाइज करे 

जैसा कि हम जानते है कि हमारी ब्लॉग थीम में HTML, CSS और JavaScript कोड का यूज़ होता ही है. कई बार ये कोड बहुत बड़े साइज में होते है. जो ब्लॉग स्पीड को स्लो करते है इसलिए हमे इन्हे मिनीमाइज /कंप्रेस करना चाहिए. इस काम के लिए आपको वर्डप्रेस पर कई प्लगइन मिल जाते है.

लेकिन कई बार थीम ऐसी डिज़ाइन होती है. चाहकर भी उसके HTML, CSS और JavaScript कोड मिनीमाइज नहीं होते है. ऐसा हमेशा फ्री और बिना सोर्स वाली थीम में होता है. कई बार ऐसी थीम यूज़ करने पर आपकी साइट पर गलत प्रभाव भी पड़ता है.

इसलिए हमेशा अपनी साइट पर सिक्योर और ट्रस्टेड थीम को यूज़ करे. हो सके तो प्रीमियम लाइट वेट थीम का यूज़ करे .आप मिनीफाई करने के लिए WP Super Minify plugin को भी यूज़ कर सकते है.

हमेशा सिम्पल और साफ-सुथरी थीम को ही यूज़ करे.

Ads का लिमिट में यूज़ करे 

जैसा कि हम में से 95% लोग ब्लॉग या वेबसाइट सिर्फ पैसा कमाने के लिए बनाते है. बाकि शौक या नॉलेज प्रदान करने के लिए.

ब्लॉग से पैसा कमाने के बात आये तो हमारे मन से सबसे पहले Google Adsense का विचार आता है. जब हमे Google Adsense का अप्रूवल मिल जाता है तो हम अपनी साइट पर भर भर के एड्स लगा देते है क्युकि हम सोचते है कि जितने ज्यादा एड्स लगाएंगे उतनी ज्यादा इनकम होगी.

इस चक्कर में हम वेबसाइट की स्पीड कम कर लेते है इसलिए एड्स को लिमिट में यूज़ करे, जरुरी जगह पर ही एड्स लगाए। यदि आपको नहीं पता कि एड्स कहा लगाए तो आप Google Adsense में "Auto ads" का ऑप्शन चुन सकते है.

इससे गूगल खुद आपकी साइट पर जरुरतनुसार एड्स लगा देगा. यही रूल किसी दूसरी एड्स कंपनी या एफिलिएट मार्केटिंग के लिए भी लागु होता है.

  • 90% Discount: Hostinger से होस्टिंग कैसे ख़रीदे
  • Blog में Sliders का यूज़ ना करें

    हम में से बहुत से लोग ब्लॉग में स्लाइडर का यूज़ करते है वो भी सिर्फ ब्लॉग का लुक बढ़ाने के लिए. लेकिन ये हमारे ब्लॉग को स्लो कर देता है.

    यदि आपको टेक्निकल नॉलेज है तो गुड लुकिंग डिज़ाइन खुद बनाये या प्रीमियम थीम को यूज़ करे.

    LazyLoad Images का उपयोग करें

    जैसा कि आप जानते है कि जब यूजर हमारी पोस्ट पर आता है तो उस साइट पर मौजूद सभी मीडिया फाइल सर्वर से लोड होती है और यूजर को शो होती है अक्सर ये प्रोसेस साइट की स्पीड को स्लो कर देता है. यदि आप LazyLoad Images plugin का उपयोग करते है

    तो वही मीडिया फाइल लोड होगी जो यूजर देखना चाहता है जो उसके सामने आएगी. साइट की सभी फाइल्स लोड होने की कोई जरुरत नहीं होगी. इससे आपकी साइट की स्पीड कम नहीं होगी.

    इससे bandwidth भी सेव होता है. LazyLoad Images का उपयोग करने के लिए आपको वर्डप्रेस पर प्लगइन मिल जाते है. WP Rocket plugin में भी LazyLoad Images की सुविधा मिल जाती है.

    CDN का यूज़ करे 

    CDN का मतलब है Content distribution network या Content Delivery Network.

    जरा सोचिये आप दिल्ली में रहते है और वहां से एक साइट को एक्सेस कर रहे है. जिसका सर्वर दिल्ली में ही है जाहिर से बात है जब भी आप उस साइट को ओपन करेंगे तो वो तेजी से ओपन होगी.

    वही यदि साइट का सर्वर आपसे दूर है या दूसरे देश में है. तब साइट स्लो लोड होगी.CDN में होता ये है कि आपकी साइट सर्वर पर होने के साथ साथ उसकी कॉपी दुनिया भर में अलग अलग लोकेशन में मौजूद होती है

    जिससे कोई भी यूजर कही से उसे एक्सेस कर सकता है इससे स्पीड डाउन नहीं होगी.

    ब्लॉग की स्पीड बढ़ाने के लिए सबसे बेस्ट plugin कौन से है?

    ब्लॉग की स्पीड बढ़ाने के लिए सबसे बेस्ट plugin नीचे दिए गए है

    Wp-reset:

    ये plugin आपको आपका वर्डप्रेस डेटा रीसेट करने में मदद करता है. आपको बस "रीसेट" टाइप करना होगा इसके बाद आपके सामने एक बिलकुल नया वर्डप्रेस डैशबोर्ड आ जायेगा. जिसमे आपके पास पहले की पोस्ट, पेज, प्लगइन और थीम कुछ भी नहीं होगा. सब नया होगा.

    Smush:

    ये plugin आपको इमेज को कंप्रेस करने में मदद करेगा. आप चाहे तो एक-एक इमेज या कई सारी इमेज एक साथ भी कंप्रेस कर सकते है. ये प्लगइन पेज स्पीड और वेबसाइट की परफॉरमेंस को भी बढ़ाता है.

    W3 total cache:

    ये plugin आपकी वेबसाइट के कुछ स्क्रीनशॉट लेकर सर्वर में सेव करता है और वेबसाइट का ऑनलाइन cache तैयार है. जिससे वेबसाइट को तेजी से लोड होने और वेबसाइट की परफॉरमेंस बढ़ने में मदद मिलती है. या आप WP Rocket / WP Super cache प्लगइन का भी यूज़ कर सकते हो.

    AMP

    यह plugin आपकी वेबसाइट का मोबाइल वर्शन तैयार करता है. जिससे वेबसाइट तेजी से लोड होती है और ये गूगल फ्रेंडली भी है.

    होस्टिंग प्लान को चेंज करे

    कई बार जब हम प्लान खरीदते है तो कम पैसे के चक्कर में सस्ते प्लान को चुनते है. शायद इसलिए कि हमारा ब्लॉग उस समय नया होता है. लेकिन बाद में उसे अपग्रेड जरूर करना चाहिए क्युकि समय के साथ आपका ब्लॉग पुराना हो रहा है ट्रैफिक ज्यादा आ रहा है कंटेंट बढ़ रहा है. मतलब आपको पहले से ज्यादा रिसोर्सस की जरुरत है.

    यदि आप भी शेयर्ड होस्टिंग प्लान को यूज़ कर रहे है तो आज ही अपना प्लान अपग्रेड करे और किसी दूसरे बड़े प्लान को चुने.

    कौन सी होस्टिंग ख़रीदे?

    यदि आप इस ब्लॉग के पुराने रीडर है तो आप जानते होंगे कि मैं पिछले काफी सालो से इस फील्ड में हूँ और मेरे पास 10 से ज्यादा ब्लॉग और वेबसाइट है मैंने आज तक बहुत सी होस्टिंग try की है। उनमे से मुझे 3 सबसे बेस्ट होस्टिंग लगी है Hostinger, Hostgator, Greengeeks

    यदि आप एक नए ब्लॉगर या वेबसाइट ओनर है.

    या फिर आपकी साइट पर कम कंटेंट है या फिर आप एक सस्ती, अच्छी और सिक्योर बेस्ट होस्टिंग की तलाश में है. तो आप Hostinger को चुन सकते है क्युकि इसमें आपको वो सब मिलता है जो एक अच्छे और सक्सेसफुल ब्लॉगर या वेबसाइट ओनर को चाहिए. मैं खुद अपनी इस साइट पर Hostinger को यूज़ कर रहा हूँ.

    बाकि होस्टिंग की भी अपनी अपनी खासियत है. ज्यादा जानकारी के लिए आप मेरा इन तीनो होस्टिंग पर लिखा गया रिव्यु जान सकते है यदि आप इन होस्टिंग को मेरे लिंक से खरीदते है.

    तो मैं आपको प्रीमियम गिफ्ट्स दूंगा जो आपको Blogging की फील्ड में काफी मदद करेंगे. इन सभी चीजों के बारे में ज्यादा जानकारी दूसरी पोस्ट पर मौजूद है जिसका लिंक नीचे है.

    Conclusion 

    आज हमने जाना कि ब्लॉग या वेबसाइट कि स्पीड कैसे बढ़ाये. मैंने आपको कई सारे बेहतरीन टिप्स दी जिससे आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट कि स्पीड बढ़ा सकते है लेकिन सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ता है. आपकी होस्टिंग का। यदि आपके पास अच्छी होस्टिंग कंपनी और उनका अच्छा प्लान है तो 80-90% गारेन्टी है कि आपकी साइट फ़ास्ट लोड होगी और डाउन नहीं होगी. इसलिए हमेशा अच्छी होस्टिंग ही ख़रीदे.

    Leave a Comment

    Share via
    Copy link
    Powered by Social Snap