Mutual Funds क्या है? इसमें कैसे निवेश करते है?

दोस्तों, आज हम बात करने वाले है Mutual funds क्या है? कैसे निवेश करे? के बारे में। इसके अलावा आज हम Mutual funds के बारे में हर चीज जानेगे जैसे- Mutual funds क्या है? कैसे निवेश करे?, Mutual funds के प्रकार, Fixed deposits,Equity Mutual Funds, Index funds मुझे उम्मीद है कि आज के बाद आपके Mutual funds से जुड़े सभी प्रश्न हल होने वाले है। तो चलिए शुरू करते है आज की ये महत्वपूर्ण जानकारी :

म्यूचुअल फंड क्या है? (What are Mutual funds)

हर महीने, जब आपका वेतन आता है तो आप उस वेतन का कुछ हिस्सा बचत के रूप में रखते हैं। या आप उसमे से बाद में उपयोग करने के लिए कुछ पैसे रखते है। शायद आपातकाल के लिए। या यदि आप घर बनाना या कार लेना चाहते हैं और आप इसके लिए बचत करते हैं। तो बचत करने के तरीके क्या हैं? मैं आपको बताता हु:

एक सरल तरीका यह है कि आप अपना वेतन बैंक में रखते हैं और ये एक जगह इकट्ठा हो जाता है। और पैसा वही पड़ा रहता है जोकि बहुत ही बेकार तरीका है बचत करने का, दोस्तों क्योंकि इस तरह से पैसे रखने से वो अपनी कीमत खो देते है

लगातार हमारे देश में पैसा बढ़ रहा है और उसके कारण वस्तुओं की कीमत बढ़ रही है तो, आपके पैसे का मूल्य हर साल Inflation की दर के अनुसार 4-5% कम हो जाता है।

रखे हुए पैसे की अपनी वैल्यू कम न हो इसीलिए लोग उस पैसे को invest कर देते है। बस निवेश करने के लिए अलग-अलग जगह चुनते हैं। हमारे देश में निवेश के लिए मुख्य रूप से 4 स्थान हैं।

  1. Savings account
  2. Fixed deposit [FD]
  3. Gold & Jewelry
  4. Real estate

और कुछ रिस्क लेकर कुछ लोग Stock market में भी invest करते है। हर किसी के निवेश में 3 चीजें होती हैं,

  1. Return
  2. Risk
  3. Time

Return का मतलब है कि कितना प्रतिशत लाभ आप कमा रहे है। और निवेश के माध्यम से कमा रहे हैं, यह आम तौर पर प्रतिशत में देखा जाता है। यदि हमारीInflation की दर 4% है, तो आपको यह देखना चाहिए कि आपका लाभ कम से कम 4% से अधिक ही हो।

यदि लाभ कम से कम 4% से अधिक नहीं है तो निवेश का कोई मतलब नहीं है ऐसे में आपके मूल्य वृद्धि नहीं हुई है। लेकिन मुद्रास्फीति की दर में वृद्धि लगातार हो रही है।

Risk इसका मतलब यह है कि निवेश करना कितना जोखिम भरा हो सकता है, उस निवेश में आप अपने सभी पैसे खो भी सकते है?

वहाँ निवेश करने के बाद कितने % चांस होते है कि आपको घाटे का सामना करना पड़े।

और Time का मतलब ये है कि कितने समय के लिए क्या आप निवेश कर रहे हैं। यहां तक कि सबसे पहला खतरा यह है कि यदि समय अधिक है, तो खतरा अधिक है, तो रिटर्न भी अधिक होगा। यदि आप अपने निवेश करने पर अधिक रिटर्न प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको अधिक जोखिम उठाना होगा

और इसके लिए आपको अधिक निवेश करना चाहिए और लम्बे समय के लिए निवेश करना मायने रखता है क्योंकि कम समय में खतरा ज्यादा होता है।

Mutual-funds भी एक विशेष प्रकार का निवेश होता है, जिसके माध्यम से आप विभिन्न प्रकार की चीजों पर एक साथ निवेश कर सकते हैं। जिसका मतलब है कि आप इस जगह पर निवेश करके एक साथ अलग अलग जगह पर निवेश कर सकते हैं। 

क्योंकि management company, Mutual-funds शुरू करती है। यदि आप Mutual-funds को बारीकी से समझेंगे तो आमतौर पर आप Asset Management Company को अपना पैसा देते हैं और जिसे कई लोग पसंद भी करते हैं।

और कंपनी विभिन्न स्थानों पर अलग अलग सभी पैसे का निवेश कर देती है। कहा पैसे निवेश करने है और कहा पैसे निवेश नहीं करने है

इसके लिए उन्होंने experts को नियुक्त किया है और उनसे सुझाव लेने के बाद वे पैसे का निवेश करते हैं। वे अलग-अलग स्थानों पर पैसा लगाते हैं और return rate भी उन्हें अलग अलग ही मिलता है।

1-2% Asset company द्वारा लाभ के रूप में रखा जाता है और बाकी आपको उस रिटर्न रेट के अनुसार वापस मिल जाता है। HDFC, HSBC, ICICI, Aditya Birla, Reliance, Tata ये कुछ कंपनियों और बैंकों के उदाहरण हैं जिन्होंने अपनी खुद की सबसे बड़ी management company शुरू की।

सभी कंपनियां बड़ी संख्या में विभिन्न प्रकार के म्यूचुअल फंड शुरू करती हैं। चलिए उदाहरण से समझते है, ICICI ने 1200 से अधिक म्यूचुअल फंड शुरू किए हैं।

कैसे पता करे कि ये कितना जोखिम भरा है? चलिए समझते है -आपका म्यूचुअल फंड और रिटर्न क्या है ये आपके, Mutual-funds पर निर्भर करता है

यदि  आप इनकम फंड में निवेश कर रहे हैं तो वे आपको रिटर्न रेट 4% से  30% तक या इससे भी अधिक दे सकते हैं। इसमें आपको खतरा ना के बराबर भी हो सकता है।

या ज्यादा खतरा भी हो सकता है। क्योंकि यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि Asset Management Company आपके पैसे का कहां निवेश कर रही है।

यदि वह कंपनी स्टॉक पर निवेश कर रही है तो यह अधिक जोखिम भरा होगा और आपको भी अधिक रिटर्न मिल सकता है और यदि सरकारी बॉन्ड में निवेश किया जाता है तो यह कम जोखिम भरा होगा।

Types of investments are best

Savings account:

इसमें आप किसी भी समय पैसे डाल सकते है। या निकाल सकते हैं। लेकिन हमे यहां मिलने वाला रिटर्न भी बहुत कम है, केवल 4% है, जबकि पिछले कुछ वर्षों में हमारी Inflation की दर 4-5% है

Fixed deposits

Fixed deposits भी कम जोखिम भरा रास्ता है लेकिन इसमें एक समय सीमा तय होती जिसमे हम उस समय सीमा से पहले पैसे नहीं निकाल सकते हैं।
इसमें आपको return भी थोड़ा अधिक मिलता है, Fixed deposits में करीब 6-8% return मिल जाता है।

Gold & jewellery

Gold & jewellery पर midium रिस्क है। कुछ हद तक इन दिनों Gold & jewellery पर return 7-8% है क्युकि इनकी कीमतों में बहुत अधिक उतार-चढ़ाव होता है।
इसलिए इनके return में भी उतार-चढ़ाव होता रहता है। यदि आप Gold & jewellery की हिस्ट्री को देखेंगे, तो आपको पता चलेगा कि 2012 तक कीमतें लगातार बढ़ रही थीं।

यदि आपने 2012 से पहले निवेश किया होता, तो आपको यहां अच्छा रिटर्न मिलता। लेकिन 2012 के बाद इसमें बहुत उतार-चढ़ाव हुआ है।
लेकिन उन्होंने एक स्तर बनाए रखा है, इसलिए लोगो को अधिक लाभ नहीं मिला है। न ही अधिक घाटा हुआ है।

Real estate

संपत्तियों में निवेश और वास्तविक निवेश में midium risk से थोड़ा कम risk है मैं आपको बताना चाहूंगा कि आप पिछले कुछ वर्षों में भारत के घरो कीमतों को देख सकते हैं। इसमें बहुत उतार चढ़ाव आया है।
मार्च 2011 में इसने 30% की return दर को छू लिया था और मार्च 2018 में Latest quarter में तो यह सिर्फ 5% return दर दे रहा था।

घरो में निवेश करने में नुकसान यह है कि इसमें निवेश करने के लिए आपके पास बहुत सारा पैसा होना चाहिए, इसमें आपको निवेश करने के लिए लाखो से करोडो रुपए तक चाहिए। जो कि हर एक आम इंसान नहीं कर सकता है।

Stock market

आपने दोस्तों शेयर बाजार के बारे में सुना होगा, आप यहां बहुत अधिक लाभ प्राप्त कर सकते हैं लेकिन उतनी ही आसानी से आपको घाटा भी हो सकता है।

स्टॉक मार्केट उस स्टॉक पर निर्भर करता है जहां आप निवेश कर रहे हैं। स्टॉक मार्किट कैसे काम करता है इसका आपको अच्छा ज्ञान होना चाहिए

तब ही आप इससे बहुत आसानी से पैसे कमा सकते है। अगर आपको इसका ज्ञान नहीं है तो मेरी राय में आपको यहां निवेश नहीं करना चाहिए।

ये कुछ अलग अलग प्रकार इन्वेस्टमेंट थी जो मैं आपको बताई है लेकिन कुछ अन्य प्रकार की भी इन्वेस्टमेंट होती है। जैसे कि Government bonds, corporate bonds इन दिनों बहुत से लोग Crypto currency पर भी निवेश करते है।

और कुछ लोग बिटकॉइन में भी निवेश भी करते हैं। आम तौर पर यदि आपको इसके बारे में ज्ञात नहीं है तो दोस्तों आपको कभी भी एक जगह पर अपने सारे पैसे का निवेश नहीं करना चाहिए।

आपको हमेशा  विभिन्न स्थानों पर निवेश करें ताकि यदि कोई नुकसान हो जाए तो आपको ज्यादा घाटा सहन नहीं करना पड़े।

मतलब आपको हर जगह पूरा नुकसान ना सहना पड़े। हर चीज के पूरी तरह से क्रैश होने की संभावना बहुत कम होती है, जैसे सोना, प्रॉपर्टी और यहां तक कि स्टॉक मार्केट।

ऐसा बहुत ही काम होता है जब सब चीजे एक साथ क्रैश कर जाती है। अगर एक चीज क्रैश हो जाती है, तो आप दूसरे से लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इसलिए  इसे विविधीकरण कहा जाता है,

मैं स्टॉक मार्किट के बारे में एक पोस्ट पहले ही लिख चुका हु जिसमे मैंने स्टॉक मार्किट से जुडी हर एक छोटी बड़ी चीज को बहुत आसान भाषा में बताया हुआ है। स्टॉक मार्किट के बारे में जानने के लिए कृपया उस पोस्ट को जरूर पढ़े।

म्यूचुअल फंड क्या है? (What are Mutual funds)

Mutual-funds भी एक विशेष प्रकार का निवेश होता है, जिसके माध्यम से आप विभिन्न प्रकार की चीजों पर एक साथ निवेश कर सकते हैं।

जिसका मतलब है कि आप इस जगह पर निवेश करके एक साथ अलग अलग जगह पर निवेश कर सकते हैं। क्योंकि management company, Mutual-funds शुरू करती है। यदि आप Mutual-funds को बारीकी से समझेंगे तो आमतौर पर आप Asset Management Company को अपना पैसा देते हैं और जिसे कई लोग पसंद भी करते हैं।

और कंपनी विभिन्न स्थानों पर अलग अलग सभी पैसे का निवेश कर देती है। कहा पैसे निवेश करने है और कहा पैसे निवेश नहीं करने है इसके लिए उन्होंने experts को नियुक्त किया है और उनसे सुझाव लेने के बाद वे पैसे का निवेश करते हैं। वे अलग-अलग स्थानों पर पैसा लगाते हैं

और return rate भी उन्हें अलग अलग ही मिलता है। 1-2% Asset company द्वारा लाभ के रूप में रखा जाता है और बाकी आपको उस रिटर्न रेट के अनुसार वापस मिल जाता है।

HDFC, HSBC, ICICI, Aditya Birla, Reliance, Tata ये कुछ कंपनियों और बैंकों के उदाहरण हैं जिन्होंने अपनी खुद की सबसे बड़ी management company शुरू की।

सभी कंपनियां बड़ी संख्या में विभिन्न प्रकार के म्यूचुअल फंड शुरू करती हैं। चलिए उदाहरण से समझते है, ICICI ने 1200 से अधिक म्यूचुअल फंड शुरू किए हैं।

कैसे पता करे कि ये कितना जोखिम भरा है? चलिए समझते है -आपका म्यूचुअल फंड और रिटर्न क्या है ये आपके, Mutual-funds पर निर्भर करता है

यदि  आप इनकम फंड में निवेश कर रहे हैं तो वे आपको रिटर्न रेट 4% से  30% तक या इससे भी अधिक दे सकते हैं। इसमें आपको खतरा ना के बराबर भी हो सकता है।

या ज्यादा खतरा भी हो सकता है। क्योंकि यह सब इस बात पर निर्भर करता है कि Asset Management Company आपके पैसे का कहां निवेश कर रही है।

यदि वह कंपनी स्टॉक पर निवेश कर रही है तो यह अधिक जोखिम भरा होगा और आपको भी अधिक रिटर्न मिल सकता है और यदि सरकारी बॉन्ड में निवेश किया जाता है तो यह कम जोखिम भरा होगा।

म्यूचुअल फंड के प्रकार (Types of Mutual funds in Hindi)

विभिन्न प्रकार के म्यूचुअल फंड विभिन्न-विभिन्न लोगों द्वारा किए गए निवेश के आधार पर निर्भर करते हैं। हम इसे 3 श्रेणियों में विभाजित कर सकते हैं:

  1. Equity Mutual Funds
  2. Debt Mutual Funds
  3. Hybrid Mutual Funds

Equity Mutual Funds क्या हैं?

यदि अपने पैसा शेयर बाजार में निवेश किया जाएगा। Naturally इस प्रकार के Mutual-funds में जोखिम अधिक होता है और रिटर्न भी अधिक होता है। स्टॉक मार्केट में आप किस तरह की कंपनी में निवेश कर रहे हैं, यदि आप बड़ी कंपनी में इन्वेस्ट कर रहे है तो इसे Large cap equity fund कहा जाता है।

यदि आप छोटी कंपनी में इन्वेस्ट कर रहे है तो इसे Small cap equity fund कहा जाता है। और इसी तरह Mid cap equity fund होता है।

बड़ी कम्पनियो की तुलना में छोटी कम्पनियो में निवेश करने में ज्यादा रिस्क होता है।, लेकिन बड़ी कंपनियों की विकास दर उतनी ही अधिक होती है जितनी कि छोटी कंपनियों के लिए हो सकती है। खतरा और return दोनों बड़ी कंपनियों में कम होता हैं। ICICI Prudential blue chip fund, Large cap equity fund का एक उदाहरण है।

यदि आप एक साल के लिए यहां निवेश करते हैं तो एक साल के बाद आपका Expected return 11.3% हो सकता है। लेकिन यदि आप यहाँ 5 साल के लिए निवेश करते हैं तो आपकी Expected return 19% की भी हो सकती है।

जैसा कि मैंने आपको बताया कि आप जितना ज्यादा समय के लिए  निवेश करेंगे, उतना ही अधिक रिटर्न आप प्राप्त भी कर सकते है।

जैसा कि हम सबको पता कि इस समय बाजार में बहुत से उपयोगी स्मार्टफोन app है। इन app में बताया जाता है कि यह Mutual-funds के बारे में जानकारी देता है,

यहां आपको हर महीने में निर्धारित करना होता है कि आप कितनी राशि निवेश करना चाहते हैं,और कब तक आपको Expected return मिलेगा। यह सब app Mutual-funds के इतिहास को देखकर काम करते है।

म्यूचुअल फंड के Expected return की गणना करने के लिए इसकी बहुत सी चीजें होती हैं। लेकिन एक बात ध्यान रखें दोस्तों कि यह एक Expected return है Guaranteed return नहीं।

यह अभी भी बाजारों पर निर्भर करता है कि Mutual-funds में आपको कितना return मिलेगा। आप इसके इतिहास को देखकर भविष्य होने वाले लाभ या हानि की गरणा नहीं कर सकते है इसलिए इसमें जोखिम भी बहुत होता है, खासकर इसलिए क्योंकि यह निवेश शेयर बाजार पर निर्धारित होता है।

आप इसमें न ही केवल Return rate देखें और फिर निवेश करें, यदि आप और ज्यादा बारीकी से अध्ययन करेंगे।

Short terms और Big terms और Pros और cons पर ध्यान दे और तय करें कि आपके लिए क्या बेहतर होगा। मेरी आपको सलाह होगी कि आप पहले इस विषय के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर ले फिर कदम बढ़ाये। इससे आपको विभिन्न प्रकार के Equity fund पर वापस जाने की Facility मिलती है।

अगला प्रकार Diversified equity funds है जिसका मतलब है कि आप कितना निवेश Big, medium and small cap में कर रहे है है या अलग-अलग कंपनियों में निवेश कर रहे है।

अगला प्रकार Equity Linked Saving Scheme (ELSS) है, यह एक विशेष प्रकार का equity funds है, जहाँ आप अपने टैक्स को बचा सकते हैं। और आप लाभ प्राप्त कर सकते हैं। Fund manager जानबूझकर ऐसी जगहों पर निवेश करते है, जहा ज्यादा आपको return मिलता है इसीलिए वहा ज्यादा रिस्क भी होता है।

IDFC tax benefit  एक ELSS funds का एक उदाहरण है, जिसमें एक वर्ष के भीतर return 11.3% की होती है। और यदि आप इसके बारे में ज्यादा जानने की कोशिश करेंगे तो आपको और ज्यादा जानकारी मिलेगी। इससे आपको पता चलेगा कि आप कितना बचत कर सकते हैं? और आपको अधिक भुगतान करना होगा?  आपको कितना टैक्स देना होगा?

अगला प्रकार Sector Mutual funds है, यहाँ विशेष रूप से ऐसी कंपनियां होती हैं जिस पर कृषि क्षेत्र जैसे बड़े क्षेत्र का निवेश किया जाता है। जो कंपनियां कृषि क्षेत्र के Under आती हैं, उनका निवेश एक logistic या Transport sector में किया जाता है,

इसका एक उदाहरण UTI Transport & Logistics Fund हैं। इसमें उस क्षेत्र में निवेश किया जाता है। जिसमे फंड अधिक जोखिम भरा होता है,

क्योंकि सभी निवेश एक जगह पर किया जाता है, इसलिए यदि उस जगह या सेक्टर में गिरावट हो रही है तो सब कुछ उसी पर निर्भर करता है।

अंतिम प्रकार का Equity fund, Index funds है। ये Equity fund निष्क्रिय रूप से Managed fund हैं, इसमें AMC का कोई एजेंट नहीं होता है,

जो यह देखे  कि पैसा कहां निवेश किया जाए और कहा न निवेश किया जाये। ये बाजार rate के हिसाब से ऊपर और नीचे होते हैं। जैसे :-Sensex और Nifty की कीमत में ऊपर और नीचे होता है।

Debt Mutual Funds क्या हैं?

अब दोस्तों म्यूचुअल फंड की दूसरी category पर नजर डालते हैं, वह है Debt mutual funds। ये ऐसे म्यूचुअल फंड्स होते हैं जो Debt instruments में निवेश किए जाते हैं। Debates Instruments - Bond, Debenture, Deposit के Certificate होते हैं।

अब, मैं आपको बताऊंगा कि Bond क्या हैं यदि सरकार को धन की आवश्यकता है और उन्हें धन बजट के माध्यम से नहीं मिल रहा है तो ऐसे में सरकार लोगों से पैसा उधार लेती है। इसे Bond कहा जाता है।

आप यहां निवेश कर सकते हैं और सरकार को भी दे सकते हैं और सरकार एक Fixed interest पर आपको बाद में पैसा लौटा भी देती है। अब Debt mutual funds कई तरह के होते हैं चलिए जानते है।

Liquid funds क्या हैं?

चलिए पहले Liquid funds के बारे में बात करते हैं। और जो जल्दी से Cash में convert हो जाता है। यहाँ पर Liquid का मतलब पीने वाला liquid नहीं है। Economics में liquid एक ऐसी चीज है जिसे आसानी से Cash में convert किया जा सकता है।

इस चीज को एक या दो दिन में Cash में convert  किया जा सकता है। लेकिन इसमें जोखिम बहुत कम होता है, जैसे कि आप इसे बचत खाते के रूप में मान सकते हैं। Aset Liquid Fund एक ऐसा उदाहरण है, जहां आपको एक साल में 7.1% का Return मिलता है।

आप पता कर सकते हैं कि इसमें विकास कितना Relevant है, इसलिए इसमें आपको दिख सकता है कि यहां जोखिम कितना कम है?  पिछले 5 वर्षों में प्रतिशत के साथ इसकी वृद्धि धीरे-धीरे बढ़ रही है।

Gilt funds

अगला प्रकार Gilt funds है, ये वे फंड हैं जहां सरकार द्वारा जारी किये गए Bond पर निवेश किया जाता है। तकनीकी रूप से इसमें जोखिम ना के बराबर होता है। क्योंकि सरकार आपके पैसे एक समय सीमा के साथ वापस कर देती है लेकिन ये हो सकता है कि सरकार द्वारा दी गयी ब्याज-दर में उतार-चढ़ाव हो।

Fixed maturity Plan

अगला प्रकार Fixed maturity Plan है और इसे आप Fixed deposite [FD] के उदहारण के रूप में समझ सकते हो। इसमें भी FD की तरह ही बहुत कम जोखिम होता है और जिसे एक निश्चित समय के लिए निवेश किया जाता है।

और आप उस निश्चित समय से पहले पैसे नहीं निकल सकते है। ये कुछ Main type थे। Debt Mutual Funds के। इसके अलावा भी बहुत typeहोते है जैसे:- Junk bond scheme।

Hybrid mutual funds क्या हैं? What are hybrid mutual funds

Mutual-funds की तीसरीश्रेणी Hybrid Mutual Funds हैं, इसमें  एकloan और Equity mutual fund का मिश्रणहोता है।कुछ लोगशेयर बाजारमें निवेशकरना चाहतेहैं, लेकिनवो सभीपैसे सिर्फशेयर बाजारमें निवेशनहीं करनाचाहते हैंऔर साथही वोDebt instruments में भी कुछराशि कानिवेश करनाचाहते हैं।इसलिए Hybrid Mutual Funds ऐसे लोगोके लिएही है।

अगर वेज्यादा पैसेDebt fund में इन्वेस्ट करतेहै तोइसे Balanced Saving Fund कहा जाताहै। औरइसका अनुपातलगभग 70: 30 काहोता हैजिसका मतलबहै किआपका पैसा70% कम जोखिमवाले Debt fund में हैऔर 30% ज्यादा जोखिमवाले Debt fund में है।और अगरइसका एकदमउल्टा होताहै मतलब70% ज्यादा जोखिमवाले Debt fund में है।तो इसे  Balanced profit fund  कहा जाताहै।

औरHybrid Mutual Fund मेंभी विभिन्नप्रकार केफंड होतेहैं जैसे:- Arbitrage fund,  मुझे उम्मीदहै किआप काफीmutual funds के बारे मेंजान गएहोंगे। अबआप इसविषय परखुद रिसर्चकीजिये जिससेआप औरज्यादा बारीकीसे समझपाएंगे। औरसमझेंगे किआपके लिएकौन साबेहतर है।

Advantage and Disadvantage of mutual funds

अन्य निवेशों की तुलना में म्यूचुअल फंड का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह पहले से ही Diversified है। Diversified के कारण आपका जोखिम बहुत कम हो जाता है। क्योंकि आप एक स्थान पर निवेश नहीं कर रहे हैं, तो अगर कोई एक चीज में नुकसान हो जाता  है तो ऐसे में आपको ज्यादा नुकसान सहना नहीं पड़ता है।

Stock market, gold, real estate से तुलना करने पर Mutual-funds कम जोखिम वाले होते हैं, हालांकि exact जोखिम उस म्यूचुअल फंड पर निर्भर करता है, जिस पर आप निवेश कर रहे हैं। इसका एक और अच्छा फायदा यह है कि यह बहुत सस्ता है,

आप एक बड़ी राशि के बिना भी इसमें निवेश कर सकते हैं और इसका आप इसका उपयोग भी कर सकते हैं। SIP का इस्तेमाल करके आप इसमें हर महीने एक छोटी राशि का निवेश कर सकते हैं। और म्यूचुअल फंड के सभी निवेश, एक Professional expert या एक Fund manager द्वारा किया जाता है, क्युकि वो आपको बताते कि कहां निवेश करना है और कहां नहीं।

आपको इसमें निवेश करने के लिए बड़े धन की आवश्यकता नहीं है। और आपके लिए यहां पर एक expert काम कर रहा है। लेकिन दोस्तों इस Mutual Fund में एक नुकसान ये भी है। यदि आप इसे किसी अनजान expert को दे रहे हैं, तो आपको नहीं पता कि उसके द्वारा किया गया प्रदर्शन कैसा चल रहा है।

वैसे भी वह एक expert है लेकिन आप 100% विश्वास नहीं कर सकते कि विशेषज्ञ भी एकदम सही ही होंगे। लेकिन सबसे बड़ा नुकसान जो पहले Mutual-funds के लिए हुआ करता था, वह यह है कि Agent Mutual Fund में निवेश के लिए बहुत सारा  कमीशन लेते थे।

वे कहते हैं कि "हमें आप पैसा दें जो हम आपके लिए निवेश करेंगे" जो म्यूचुअल फंड और खुद के लिए बहुत सारा कमीशन काटते थे ।

Important Tips

  1. सबसे पहलेइसविषयकेबारेमेंपूरीजानकारीप्राप्तकरलेफिरआगेबढे।
  2. खुद सेरिसर्चकरेऔरएकदमसहीजानकारीप्राप्तकरे।
  3. Long-Term goals जरूर सेट करे।
  4. अपने रिस्क लेने की छमता को जरूर समझे।
  5. रिसर्च और प्लानिंग के साथ ही इस फील्ड में आगे बढे।
  6. इस फील्ड से जुडी छोटी से छोटी बातो को जरूर सीखे।
  7. अपने सभी पैसे एक ही जगह न लगाए।
  8. पहले Mutual Funds के बारे में सब कुछ जान ले फिर उसके बात में निवेश करे।

ज्यादा जानकारी के लिए आप Economic times जैसे न्यूज़ पेपर पढ़ सकते है और आप न्यूज़ चैनल की भी मदद ले सकते हो।

Conclusion

आज हमने भी जाना कि "Mutual funds क्या है? कैसे निवेश करे?” हमने अलावा हमने "Mutual funds के प्रकार, Fixed deposits,Equity Mutual Funds, Index funds" के बारे में भी बात की। उम्मीद करते है कि आज कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी।

यदि आपको हमारी ये जानकारी पसंद आयी है तो आप इसे शेयर जरूर करे। और कोई हमारे लिए सुझाव या प्रश्न हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताये।

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap