Operating system क्या है? What is Operating system in Hindi

एक ऑपरेटिंग सिस्टम में कई काम होते हैं. जैसे उसका काम है कि ये निश्चित करना कि किसी भी प्रोग्राम या टास्क को करने के लिए सीपीयू, सिस्टम मेमोरी, डिस्प्ले, इनपुट डिवाइस और अन्य हार्डवेयर डिवाइस का यूज़ आसानी से किया जा सकता है.

और यूजर को एक सुरक्षित, साफ़ सुथरा, तेज और यूजर फ्रेंडली इंटरफ़ेस प्रदान करना भी इसी का काम है ताकि मेरे और आपके जैसे यूजर अपना काम आसानी से कंप्यूटर पर कर पाए.

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि हमे ऑपरेटिंग सिस्टम की जरुरत क्यों पड़ी? पहला ऑपरेटिंग सिस्टम कौन सा था और इसे किसने बनाया था? बाजार में कई सारे ऑपरेटिंग सिस्टम मौजूद है लेकिन सबसे ज्यादा विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम क्यों पसंद किया जाता है?

ऐसे ही कई सवाल है जिनके उत्तर आज मैं आपको इस पोस्ट में दूंगा. साथ ही हम जानेंगे ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है (What is operating system in hindi) इसका इतिहास क्या है? ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते है?, ऑपरेटिंग सिस्टम के क्या क्या फीचर है?

Table of Contents

Operating system क्या है? (What is Operating system in hindi)

ऑपरेटिंग सिस्टम सबसे महत्वपूर्ण कंप्यूटर सॉफ्टवेयर है जो हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर संसाधनों को मैनेज करता है

ऑपरेटिंग सिस्टम प्राथमिक सॉफ्टवेयर होता है जो कंप्यूटर पर सभी हार्डवेयर और अन्य सॉफ्टवेयर को मैनेज करता है. Operating system को OS के रूप में भी जाना जाता है, ये हार्डवेयर के साथ काम करता है जिससे कोई भी यूजर अपना काम आसानी से कंप्यूटर पर कर पाए. 

दूसरी भाषा में हम कह सकते है कि यहाँ हम ऑपरेटिंग सिस्टम की मदद से डायरेक्ट किसी भी सॉफ्टवेयर से कोई भी काम करने को कह रहे है। हम सबने MS word नाम का सॉफ्टवेयर यूज़ किया होगा जिसका काम है

किसी भी प्रकार की टेक्स्ट फाइल को तैयार करना। उदाहरण के लिए हमारे कंप्यूटर में MS word इनस्टॉल है यदि इसकी मदद से हमे एक रिज्यूम बनाना है तो क्या हम डायरेक्ट इसे ये काम करने को कह सकते है?? नहीं

क्युकि जो भाषा हम बोलते है उसे समझ नहीं आती है.

इसलिए हम यूज़ करते है ऑपरेटिंग सिस्टम का. यदि हमारे कंप्यूटर में ऑपरेटिंग सिस्टम इनस्टॉल है तो हम इसकी मदद से MS word को डायरेक्ट एक्सेस कर सकते है वो भी सिर्फ कुछ क्लिक्स में.

यदि रिज्यूम बनने के बाद हमे इसका प्रिंटआउट निकलना है. मतलब कि यहाँ हमे एक प्रिंटर की जरुरत पड़ेगी जो कि एक हार्डवेयर डिवाइस है ऑपरेटिंग सिस्टम की मदद से हम किसी भी हार्डवेयर डिवाइस को भी आसानी से एक्सेस कर सकते है.

इंटरफ़ेस दो तरह के होते है.

  • Command-line interface (CLI
  • Graphical UI (GUI)

इसे कंप्यूटर की हार्ड ड्राइव पर इनस्टॉल किया जाता है.

जब कंप्यूटर पहली बार लांच किये गए थे, तो इनमे Command line interface का उपयोग किया गया था. जिसकी मदद से लोगो ने पहली बार कंप्यूटर के जरिये बात-चीत की थी.

आज, लगभग हर एक कंप्यूटर GUI (Graphical user interface) सिस्टम का उपयोग कर रहा है जो उपयोग के साथ साथ काम करने में भी आसान है.

ऐसा नहीं है कि हम बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के कोई काम नहीं कर सकते हम हर एक काम कर सकते है। लेकिन उसके लिए हमे कोडिंग की अच्छी नॉलेज होनी चाहिए। क्युकि तब हमे कंप्यूटर पर छोटे से लेकर बड़े हर टास्क के लिए एक नए कोड की जरुरत होगी। जो कोई करना पसंद नहीं करेगा।

ये हमारे काम को स्लो करता है जो फ्रेंडली नहीं होता है. आप इसकी कल्पना कर सकते है. बिना ऑपरेटिंग सिस्टम के हर कोई कंप्यूटर पर काम नहीं कर सकता है

Full form of os in computer

OS का Full form- Operating system होता है.

Operating System list

आज के समय जिस तरह टेक्नोलॉजी तेजी से बढ़ रही है. उसी तरह ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाना कोई मुश्किल काम नहीं रह गया है. इसलिए बाजार में कई ऑपरेटिंग सिस्टम मौजूद है. लेकिन उनमे से कुछ ही लोगो द्वारा पसंद किये जाते है जो निम्न है.

  • Microsoft Windows
  • Linux
  • Android
  • iOS
  • Unix
  • macOS

Operating system का विकास (evolution operating system in Hindi)

यदि आपको कंप्यूटर की पीढ़ियों के बारे में पता है तो आपको Operating system का इतिहास ज्यादा अच्छी तरह समझ आएगा. यदि आपको इसके बारे में नहीं पता तो पहले कंप्यूटर की पीढ़ियों के बारे जरूर जान ले.

जब ऑपरेटिंग सिस्टम नहीं बना था तब भी कंप्यूटर यूज़ किये जाते है. लेकिन उन कम्प्यूटरो पर काम करना बहुत कठिन था क्युकि उनमे एक छोटे से टास्क को करने के लिए भी कोडिंग करनी पड़ती थी जो कि एक लम्बा प्रोसेस था और ये छोटे से काम को भी स्लो कर देता था.

first generation operating system (1945-1955)

इसमें vacuum tube और plug board जैसे हार्डवेयर का यूज़ किया जाता था. इसमें कोई भी प्रोटेक्शन नहीं थी. कोई भी इनपुट देने के लिए punch word का यूज़ करना पड़ता था. इसमें मशीन लेवल लैंग्वेज पर काम करना पड़ता था.

इसमें बहुत बिजली की खपत होती थी और हीट बहुत जेनेरेट होती थी.

Second Generation Operating System (1955-1965)

इसमें Transistors का यूज़ किया गया था और प्रोसेस के लिए बैच सिस्टम का यूज़ किया गया था. बहुत कम प्रोटेक्शन मिलती थी.

इसमें assembly language का यूज़ किया जाता था. इन मशीनों को मेनफ्रेम के रूप में जाना जाता था.

third Generation Operating System (1965-1980)

इसमें Transistors की जगह Integrated circuit (IC's) का यूज़ किया जाता था. ये multiprogramming और टाइम शेयरिंग सिस्टम पर काम करता था.

इसमें ऑनलाइन स्टोरेज का भी यूज़ किया गया था जो पहले के ऑपरेटिंग सिस्टम में नहीं किया गया था.

1960 के दशक तक, दो प्रकार के कंप्यूटर सिस्टम थे, वैज्ञानिक और व्यावसायिक कंप्यूटर. इन्हें IBM द्वारा System 360 में मैनेज किया जाता था.

fourth Generation Operating System (1980-current)

इसमें LSI (Large scale integration) और ऐसी चिप्स का यूज़ किया गया. जिसमे हजारो Transistors एक वर्ग सेंटीमीटर सिलिकॉन पर यूज़ किये जा सकते थे. इनकी वजह से माइक्रो कंप्यूटर मिनी कंप्यूटर की तुलना में बहुत सस्ते थे.

इसमें Multi threading, Scheduling, Pipelining यूज़ किये जा सकते थे. LSI की मदद से पर्सनल कंप्यूटर बनाये गए.

Operating system का इतिहास (History operating system in Hindi)

सर्वप्रथम Central कंप्यूटरों के मालिकों ने सिस्टम सॉफ़्टवेयर विकसित करना शुरू कर दिया, जिससे कंप्यूटर की एप्लीकेशन को यूज़ करने में आसानी हुई और इस तरह पहले Operating system का जन्म हुआ.

पहला Operating system 1956 में General Motors द्वारा Single IBM central computer को चलाने के लिए बनाया गया था.

1960 के दशक में, IBM Operating System को विकसित करने का काम करने वाला पहला कंप्यूटर निर्माता बना और अपने कंप्यूटरों में शामिल Operating System को दूसरे कंप्यूटर के लिए बाँटने का काम किया.

पहला Operating system 1950 के दशक में विकसित किया गया था. जब कंप्यूटर एक समय में केवल एक प्रोग्राम चला सकते थे. बाद के दशकों में, कंप्यूटर में अधिक से अधिक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम शामिल किये गए. जिन्हें Library कहा जाता था. जो आज के Operating system का निर्माण करने के लिए एक साथ यूज़ किये गए थे.

1960 के दशक के अंत में, Unix Operating system का पहला Edition बनाया गया था. जो Programming Language C में लिखा गया था और अपने शुरुआती वर्षों के दौरान मुफ्त में उपलब्ध था। Unix ने आसानी से नए सिस्टम को समझ लिया और जल्दी से एक बड़ी स्वीकृति हासिल कर ली थी.

इसमें कई आधुनिक Operating system, जिनमें Apple OS X और Linux के सभी अलग-अलग संस्करण शामिल हैं.

माइक्रोसॉफ्ट ने 1975 में पहला विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया था.

माइक्रोसॉफ्ट विंडोज ओएस को पेश करने के बाद, Bill Gates और Paul Allen ने पर्सनल कंप्यूटर को नेक्स्ट लेवल पर ले जाने का सपना देखा. इसलिए, उन्होंने 1981 में MS-DOS ऑपरेटिंग सिस्टम लांच किया.

Windows नाम का उपयोग पहली बार 1985 में किया गया था जब एक Graphical user interface बनाया गया था और MS-DOS के साथ जोड़ा गया था.

आज Apple, OS X, Microsoft Windows, android और Linux के सभी वर्शन Operating system बाजार में बड़ी संख्या में यूज़ किये जाते हैं.

अधिकांश सॉफ़्टवेयर प्रोग्राम किसी एकल कंपनी के Operating system के साथ काम करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं, जैसे Windows (Microsoft) या केवल macOS (Apple).

Features of Operating System

यहाँ एक सूची है जिसमें आमतौर पर एक Operating system की महत्वपूर्ण विशेषताएं देखने मिलती हैं.

  • Protected and supervisor mode
  • Allows disk access and file systems Device drivers Networking Security
  • Program Execution
  • Memory management Virtual Memory Multitasking
  • Handling I/O operations
  • Manipulation of the file system
  • Error Detection and handling
  • Resource allocation
  • Information and Resource Protection

Functions of an Operating System (एक Operating system के कार्य)

एक Operating system के कार्य कुछ बहुत महत्वपूर्ण कार्य होते है जो निम्न है Operating system में सॉफ्टवेयर प्रत्येक फ़ंक्शन करता है.

Process management

Process management process को करने और हटाने में OS की मदद करता है. यह process के बीच सिंक्रनाइज़ेशन और संचार के लिए तंत्र भी प्रदान करता है.

Memory management

Memory management Module इस संसाधन की आवश्यकता वाले programs में मेमोरी स्पेस के Allot और डी-Allot का कार्य करता है.

File management 

यह फ़ाइल से संबंधित सभी गतिविधियों जैसे Organization storage, retrieval, naming, sharing और Files security का प्रबंधन करता है.

Device Management

Device Management सभी devices का ट्रैक रखता है. इस कार्य के लिए जिम्मेदार यह मॉड्यूल I/O controller के रूप में जाना जाता है. यह उपकरणों के Allot और D-Allot का कार्य भी करता है.

I/O System Management 

किसी भी OS की मुख्य वस्तुओं में से एक उस हार्डवेयर उपकरणों की ख़ासियत को उपयोगकर्ता से छिपाना भी है. जो ये करता है.

Secondary-Storage Management 

सिस्टम में Storage के कई स्तर होते हैं. जिसमें Primary Storage, Secondary Storage और Cash storage शामिल होते हैं. निर्देश और डेटा को Primary Storage या Cash में स्टोर किया जाना चाहिए.

Security

Security module, Malware threat और Authorized access के विपरीत एक कंप्यूटर प्रणाली के डेटा और जानकारी की सुरक्षा करता है.

Command interpretation

यह मॉड्यूल उस कमांड को प्रोसेस करने के लिए और Acting system resources द्वारा दिए गए कमांड को Explain करता है.

Networking

एक Distributed, system processor का एक समूह है जो Memory, hardware device या एक घड़ी share नहीं करता है. प्रोसेसर नेटवर्क के माध्यम से एक दूसरे के साथ बात चीत करता हैं.

Job accounting

इसका काम विभिन्न नौकरी और उपयोगकर्ताओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले समय और संसाधन का ध्यान रखना है.

Types of Operating Systems

एक Operating system सभी बुनियादी कार्यों को मैनेज करता है जैसे फाइल, प्रोसेस और मेमोरी। इस प्रकार Operating system सभी संसाधनों के मैनेजर के रूप में कार्य करता है. इस प्रकार ऑपरेटिंग सिस्टम के यूजर और मशीन के बीच एक इंटरफेस बन जाता है.

Operating system के कुछ व्यापक प्रकार इस प्रकार हैं.

Batch Operating System

इस प्रकार का Operating system सीधे कंप्यूटर से इंटरैक्ट नहीं करता है. एक ऑपरेटर है जो समान आवश्यकता वाले समान कार्य करता है और उन्हें बैचों में एकठ्ठा करता है. यह ऑपरेटर की जिम्मेदारी है कि वह समान जरूरतों के साथ नौकरियों को छांटे.

Time-Sharing Operating Systems

प्रत्येक कार्य को अलग करने के लिए कुछ समय दिया जाता है. ताकि सभी अच्छे तरीके से कार्य को करें. प्रत्येक उपयोगकर्ता को CPU पर समय मिलता है क्योंकि वे Single system का उपयोग करते हैं. इन प्रणालियों को Multitasking system के रूप में भी जाना जाता है.

कार्य एक user या बहुत से users से भी हो सकता है. प्रत्येक कार्य को अलग करने के लिए मिलने वाले समय को Quantum कहा जाता है. इस समय के बाद अंतराल, अगले कार्य के लिए ओएस स्विच से अधिक होता है.

Distributed Operating System

इस प्रकार के Operating system कंप्यूटर प्रौद्योगिकी की दुनिया में एक उन्नति है जो अभी जल्दी ही किये गए है और ये दुनिया भर में व्यापक रूप से स्वीकार किये जा रहे है और वह भी एक बड़ी गति के साथ. विभिन्न Autonomous interconnected computer एक Shared communication network का उपयोग करके एक दूसरे से आदान प्रदान करते हैं.

स्वतंत्र सिस्टम के पास अपनी मेमोरी यूनिट और सीपीयू होता है. इन्हें Loosely coupled system या Distributed Systems कहा जाता है. इन सिस्टम के प्रोसेसर आकार और कार्य में भिन्न होते हैं। इस प्रकार के Operating system के साथ काम करने का मुख्य लाभ यह है.

कि यह जरूर संभव है कि कोई उपयोगकर्ता उन फ़ाइलों या सॉफ़्टवेयर को एक्सेस सकता है जो असल में उसके सिस्टम पर मौजूद भी नहीं हैं, लेकिन इस नेटवर्क से जुड़े डिवाइस किसी अन्य सिस्टम पर यानी रिमोट एक्सेस से सक्षम है.

Network Operating System

ये सिस्टम एक सर्वर पर चलते हैं और Data, users, groups, security, applications और अन्य नेटवर्किंग कार्यों को प्रबंधित करने की क्षमता प्रदान करते हैं. इस प्रकार के Operating system छोटे निजी नेटवर्क पर Files, printers, security, Applications और अन्य नेटवर्किंग कार्यों की साझा पहुंच की अनुमति देते हैं.

नेटवर्क Operating system का एक और महत्वपूर्ण पहलू यह है कि सभी उपयोगकर्ता नेटवर्क के भीतर अन्य सभी उपयोगकर्ताओं के साथ configuration करते है. आगे उनके व्यक्तिगत कनेक्शन आदि के बारे में अच्छी तरह से जानते हैं और यही कारण है कि इन कंप्यूटरों को लोकप्रिय रूप से Tightly coupled systems के रूप में जाना जाता है.

Real-Time Operating System

इस प्रकार के OS, Real-time system का काम करते हैं। आदानों को Process करने और प्रतिक्रिया देने के लिए जरुरी समय अंतराल बहुत छोटा होता है. इस समय अंतराल को Response Time कहा जाता है.

Real-time system का उपयोग तब किया जाता है जब समय की जरूरते बहुत सख्त होती हैं जैसे Missile systems, air traffic control systems, robots आदि.

ऑपरेटिंग सिस्टम के महत्वपूर्ण कार्य (Function of operating system in hindi)

एक ऑपरेटिंग सिस्टम के महत्वपूर्ण कार्य:

Security

Operating system, user data और इसी तरह की अन्य Techniques की सुरक्षा के लिए Password protection का उपयोग करता है। यह कार्यक्रमों और User डेटा तक unauthorized access को भी रोकता है।

Control over system performance

प्रदर्शन को बेहतर बनाने में मदद करने के लिए Holistic system health पर बारीकी नज़र रखता है। Service requests और System response के बीच Response time को सिस्टम की बॉडी के बारे में फुल व्यू रखने के लिए रिकॉर्ड करता है. 

यह समस्याओं को हल करने के लिए आवश्यक महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करके प्रदर्शन को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है.

Job accounting

Operating system विभिन्न कार्यों और उपयोगकर्ताओं द्वारा उपयोग किए जाने वाले समय और Resources का ट्रैक रखता है. 

इस जानकारी का उपयोग किसी विशेष उपयोगकर्ता या उपयोगकर्ता के समूह के लिए Resources के उपयोग को ट्रैक करने के लिए किया जा सकता है.

Error detecting aids

Operating System Errors का पता लगाने और कंप्यूटर सिस्टम की खराबी से बचने के लिए लगातार सिस्टम की देख रेख करता है.

Coordination between other software and users

ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर सिस्टम के विभिन्न उपयोगकर्ताओं के लिए Interpreters, compiler, assembler और अन्य सॉफ़्टवेयर का Coordination और Assign करता है।

Memory Management

ऑपरेटिंग सिस्टम Primary memory या Main memory को मैनेज करता है। Main memory बाइट्स या शब्दों के एक Large table से बनी होती है जहाँ प्रत्येक बाइट या शब्द को एक Fixed address दिया जाता है. 

मुख्य मेमोरी एक Fast storage है और इसे सीधे सीपीयू द्वारा एक्सेस किया जा सकता है. किसी प्रोग्राम को अलग करने के लिए, इसे पहले मुख्य मेमोरी में लोड किया जाना चाहिए. एक ऑपरेटिंग सिस्टम Memory Management के लिए निम्नलिखित काम करता है:

यह Primary memory का ट्रैक रखता है, यानी मेमोरी के बाइट का उपयोग किस उपयोगकर्ता प्रोग्राम द्वारा किया जाता है. Memory addresses जो पहले से ही Allot किए गए हैं और Memory addresses जो अभी तक उपयोग नहीं किए गए हैं. मल्टी प्रोग्रामिंग में, ओएस यह तय करता है कि किस प्रक्रिया में मेमोरी को एक्सेस दिया जाए और कब तक.

Processor Management

एक Multi programming environment में, OS उस प्रक्रिया को तय करता है जिसमें प्रोसेसर तक जाने की इजाजत होती है, और प्रत्येक प्रक्रिया में कितना Processing का समय होता है। OS के इस फंक्शन को Process scheduling कहा जाता है। इसके अलावा भी OS - Device Management, File Management आदि फंक्शन करता है

लाभ (Advantage of using Operating System Hindi)

  • आपको एक abstraction बनाकर हार्डवेयर की जानकारी को छिपाने की सुविधा मिलती है
  • GUI के साथ प्रयोग करने में आसान।
  • एक environment प्रदान करता है जिसमें एक उपयोगकर्ता Programs/applications को Execute कर सकता है
  • ऑपरेटिंग सिस्टम को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि कंप्यूटर सिस्टम उपयोग करने के लिए सुविधाजनक है
  • ऑपरेटिंग सिस्टम Applications और Hardware components के बीच एक Mediator के रूप में कार्य करता है
  • यह format का उपयोग करने के लिए आसान कंप्यूटर सिस्टम resources प्रदान करता है
  • सिस्टम के सभी हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच एक Mediator के रूप में कार्य करता है

नुकसान (Disadvantages of using Operating System Hindi)

  • यदि OS में कोई समस्या होती है, तो आप अपने सिस्टम में store सभी contents को खो सकते हैं
  • ऑपरेटिंग सिस्टम का सॉफ्टवेयर छोटे आकार के संगठन के लिए काफी महंगा है उदाहरण के लिए विंडोज
  • यह कभी भी पूरी तरह से सुरक्षित नहीं है इस में किसी भी समय खतरा हो सकता है
  • ऑपरेटिंग सिस्टम कंप्यूटर पर कहाँ स्टोर किया जाता है?
  • अधिकांश कंप्यूटरों में, Operating system को कंप्यूटर के अंदर प्राथमिक हार्ड ड्राइव पर स्टोर किया जाता है। कंप्यूटर ऑपरेटिंग सिस्टम को बाहरी हार्ड ड्राइव, डिस्क ड्राइव या फ्लैश ड्राइव से भी स्थापित और लोड किया जा सकता है।

Checkout complete Playlist of Operating system (Step 2 Step Guide) Click Here

FAQ (अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न)

Operating system कंप्यूटर पर कहाँ store किया जाता है?

अधिकांश कंप्यूटरों में, Operating system को कंप्यूटर के अंदर प्राथमिक हार्ड ड्राइव पर स्टोर किया जाता है। कंप्यूटर Operating system को बाहरी हार्ड ड्राइव, डिस्क ड्राइव या फ्लैश ड्राइव से भी स्थापित और लोड किया जा सकता है।

Multitasking Operating System क्या है?

Multitasking Operating System एक कंप्यूटर सिस्टम पर एक ही समय में एक उपयोगकर्ता द्वारा कई प्रोग्राम कार्यों को अलग करने के लिए इंटरफ़ेस प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, कोई भी editing वर्क किया जा सकता है

जबकि अन्य कार्यक्रम Concurrent form से Execute हो रहे हैं। उदाहरण के लिए, उपयोगकर्ता उसी समय Gmail और power point खोल सकता है।

FreeBSD operating system क्या है?

FreeBSD अलग अलग प्लेटफार्मों के लिए एक स्वतंत्र और ओपन सोर्स Operating system है जो Features, speed और Stability पर focus करता है। जिसे Berkeley Software Distribution द्वारा बनाया गया है, जो कि UNIX® का Edition है, जो University of California, Berkeley में विकसित किया गया है।

 यह एक बड़ी Community द्वारा विकसित और रखरखाव किया जाता है। इसकी खोज 1 November 1993 को हुई थी  FreeBSD का पहला Edition 1993 में जारी किया गया था। 2005 में, FreeBSD सबसे लोकप्रिय ओपन-सोर्स BSD ऑपरेटिंग सिस्टम बन गया था,

oracle operating system क्या है?

ओरेकल लिनक्स जिसे अन्य रूप में ओएल, ओरेकल एंटरप्राइज लिनक्स या ओईएल के रूप में जाना जाता है ओरेकल लिनक्स एक लिनक्स वितरण है जो 2006 के अंत से जीएनयू जनरल पब्लिक लाइसेंस के तहत आंशिक रूप से उपलब्ध ओरेकल द्वारा पैक और स्वतंत्र रूप से वितरित किया गया है

इसे Red Hat Enterprise Linux (RHEL), Source code से assemble किया गया है, जो Oracle के साथ Red Hat Branding की जगह ले रहा है। इसका उपयोग Oracle cloud और Oracle Engineer Systems जैसे Circle x data और अन्य द्वारा भी किया जाता है।

Multi user Operating System क्या है?

एक Multi user Operating System एक समय में एक मशीन को यूज़ करने के लिए कई उपयोगकर्ताओं की इजाजत देता है। सभी अलग-अलग उपयोगकर्ता कई टर्मिनलों की मदद से उस सिस्टम, Running operating system को यूज़ सकते हैं, जो नेटवर्किंग रूप में जुड़े हुए हैं।

Multi user os की डिजाइनिंग का मुख्य उद्देश्य मेनफ्रेम सिस्टम पर Time sharing और Batch processing के लिए उपयोग करना है। अब इन दिनों, Multi user operating system का उपयोग बड़े संगठन, सरकारी क्षेत्र, educational system जैसे बड़े पैमाने पर विश्वविद्यालय में किया जाता है, और ज्यादातर सर्वर साइड जैसे Ubunto Server या Windows Server में उपयोग किया जाता है। ये सर्वर एक साथ कई उपयोगकर्ताओं को Operating system, कर्नेल और हार्डवेयर को यूज़ करने की इजाजत देते हैं।

Conclusion

आज हमने जाना कि Operating system kya hai? (what is Operating system in hindi) इसके अलावा इसके Features और Types के बारे में चर्चा की उम्मीद है आपको ये जानकारी पसंद आयी होगी. इसलिए इस पोस्ट को अपने ग्रुप में फैला दो. और साथ ही मुझे Instagram पर फॉलो करो.

1 thought on “Operating system क्या है? What is Operating system in Hindi”

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap