SIP क्या है? इससे कैसे कमाए लाखो, पूरी जानकारी

sip-kya-hai-in-hindi
Image Source – Google | Image by – CANVA


क्या आप SIP में निवेश करते है या करना चाहते है। तो आप बिलकुल सही जगह है आज हम इस विषय पर बारीकी से बात करने वाले है आज हम जानने वाले है कि सिप क्या है (SIP in Hindi), sip ka full form,

ये कैसे काम करता है, SIP से पैसे कैसे कमाए, एसआईपी के फायदे और नुकसान, इसमें कब निवेश करें, SIP में निवेश कैसे करें, सिप (SIP) शुरू करने के लिए न्यूनतम और अधिकतम कितनी धनराशि चाहिए,
क्या SIP एक जोखिम भरा निवेश है, क्या होगा यदि मैं एसआईपी की किस्त को भूल जाउ, चलिए शुरू करते है:-
Contents Hide

सिप क्या है (What is SIP in Hindi)

यदि मैं आपको शार्ट में बताऊ तो SIP के जरिये से आप कम नुकसान के साथ निवेश कर सकते हो और ज्यादा मुनाफा कमा सकते है कैसे? चलिए थोड़ा बारीकी से समझते है।
आप भी जॉब/बिज़नेस  करते होंगे और उससे आपको पेमेंट भी मिलती होगी। उन पैसों में से कुछ भाग आप खर्च करते होंगे और कुछ अपने भविष्य के लिए बचा लेते होंगे जिसे बचत कहते है जो कि एक अच्छी बात है सबको ऐसा ही करना चाहिए।
 
लेकिन हम में से बहुत लोग बचत करने के लिए एक गलत रास्ते का चुनाव करते है हम उस धनराशि को अपने पास रख लेते है और समझते है कि ये बचत करने का सबसे अच्छा तरीका है लेकिन ऐसा नहीं है।
क्युकि इस तरीके से वह धनराशि बढ़ती नहीं है और अंत में आपको उतनी ही राशि मिलती है जितनी आपने शुरु में रखी हुई होती है
 
क्या आपको पता है कि आज के इस आधुनिक युग में बचत करने के बहुत से तरीके है जिससे आप देर सारा मुनाफा कमा सकते हो उनमे से सबसे चर्चित निवेश करने का स्थान शेयर मार्किट और म्यूच्यूअल फण्ड है
जैसा कि आपको पता होगा कि शेयर मार्किट में निवेश करने के लिए आपको एक अच्छी खासी धनराशि की जरुरत होती है क्युकि उसमे आप किसी कंपनी के शेयर को खरीदते हो।
 
लेकिन यदि मैं आपको कहु कि शेयर मार्किट/ म्यूच्यूअल फण्ड में निवेश के लिए आपको बड़ी राशि की जरुरत नहीं है आप छोटी सी राशि से भी निवेश की शुरुआत कर सकते हो कैसे? SIP का यही काम होता है
 
इसमें आप छोटी सी राशि के जरिये शेयर मार्किट, म्यूच्यूअल फण्ड आदि में बहुत आराम से निवेश की शुरुआत कर सकते हो। यदि आपको शेयर मार्किट या म्यूच्यूअल फण्ड की कुछ खास जानकारी नहीं है
तब भी कोई दिक्कत की बात नहीं है SIP में आपको सारी सुविधाएं मिलती है बस इन्ही कुछ कारणों की वजह से SIP माध्यम वर्गीय लोगो के बीच चर्चित हुआ है 
इसमें आपको हमेशा अनुशासित तरीके से निवेश करना होता है। इस प्रक्रिया को sip in Hindi या sip meaning in Hindi भी कहते है। 

(SIP का फुल फॉर्म)

SIP का फुल फॉर्म Systematic Investment Plan है परन्तु ये लोगो के बीच SIP के नाम से ज्यादा प्रसिद्ध है

 How SIP works in Hindi? (SIP कैसे काम करता है?)

यदि आप जानना चाहते है कि सिप कैसे काम करता है इसे जानने के लिए आप एक छोटे बच्चे और उसके गुल्लक (पिग्गी बैंक) की कल्पना करे जिस प्रकार बच्चा अपने पिग्गी बैंक में समय समय पर पैसे जमा करता है 
और जब ढेर सारे पैसे जमा हो जाते है और जब अपना पिग्गी बैंक खोलता है या तोड़ता है तब उसे ढेर सारा पैसा प्राप्त होता है इस प्रक्रिया को sip yojana के नाम से भी जानते है।
ठीक यही प्रक्रिया निवेशक और एसआईपी के बीच होती है यहाँ पर बच्चा, निवेशक और पिग्गी बैंक, एसआईपी के सामान है लेकिन पिग्गी बैंक और एसआईपी के बीच सबसे बड़ा अंतर यह है कि पिग्गी बैंक में पैसा एक जगह एकट्ठा होता है 
लेकिन एसआईपी उस पैसे को लाभदायक व्यवसायों में निवेश करता हैं और आपको कमाई का एक हिस्सा देते हैं। और अवधिनुसार निवेश के साथ पुनर्निवेश की जा रही राशि बड़ी होती रहती है 
 
जिसका मतलब है कि निवेश पर रिटर्न बड़ा होने के साथ-साथ बढ़ता है। एक निवेशक और बच्चे में ये अंतर होता है कि बच्चे को राशि जमा करने के लिए कोई समय सीमा का पालन नहीं करना पड़ता है
लेकिन निवेशक को समय-सीमा का पालन करना पड़ता है इसमें आप समय साप्ताहिक / मासिक / त्रैमासिक / अर्ध-वार्षिक या वार्षिक आधार पर चुन सकते है। यह तरीका भी sip yojana को दुसरो से खास बनता है।

SIP से पैसे कैसे कमाए

About sip investment in Hindi

हमेशा से पैसे कमाने के दो तरीके है जो ज्यादा फेमस है पहला ये कि आप कड़ी मेहनत बनाना दूसरा ये कि कोई संपत्ति बनाना। लेकिन आज के समय में एक तरीका बहुत तेजी से फेमस हो रहा है वो है निवेश करना।
आप बहुत आसानी से SIP के यूज़ से स्टॉक, बॉन्ड, कमोडिटी, म्यूचुअल फंड में निवेश कर सकते है

Consult a Professional Advisor (पेशेवर सलाहकार से परामर्श करें)

SIP  में निवेश करने से पहले आप एक पेशेवर सलाहकार से सलाह जरूर ले क्युकि वो आपसे पहले से इस फील्ड में है तो जाहिर सी बात है उसको इस विषय में आपसे ज्यादा ज्ञान होगा इसलिए उससे सलाह जरूर ले वो आपको अच्छी स्कीमों के बारे में बताएंगे जो आपके लिए सबसे परफेक्ट होगी।
और आपके लिए एक अच्छे समय और अच्छी राशि का चुनाव करेंगे। अच्छे सलाहकारों को चुनने के लिए उनके पिछले अनुभव, ट्रैक रिकॉर्ड और वर्ड-ऑफ-माउथ देखे।

Start with a small amount (छोटी राशि से शुरू करो)

हमेशा छोटी राशि से शुरुआत करो क्युकि छोटी राशि सुंदर, सस्ती और उपयोग में आसान होती है। मतलब कि यदि आपका पहला निवेश सफल नहीं भी हुआ तो बड़े निवेश की तुलना में आपको ज्यादा नुकसान का सामना नहीं करना पड़ेगा।

Automate Investments स्वचालित निवेश करे

SIP में निवेश करने के लिए आपको एक निश्चित राशि और एक निश्चित समय चुनना होता है। आप समय साप्ताहिक / मासिक / त्रैमासिक / अर्ध-वार्षिक या वार्षिक आधार पर चुन सकते है फिर उसके बाद आपको समय-समय पर वह निश्चित राशि जमा करनी होती थी और आप जब आपकी समय अवधि पूरी हो जाती है 
तो आपको एक अच्छी खासी रकम प्राप्त होती है। 

निवेश प्रक्रिया को स्वचालित करना निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका है क्योंकि यह मौका और भावनात्मक धोखाधड़ी के लिए कुछ भी नहीं छोड़ता है और बाजार का कोई टाइम नहीं होता है 

उदहारण के लिए मैंने 500 रुपया निवेश करने का सोचा। और मैंने राशि मासिक जमा करने का चुनाव किया। इसके लिए मैंने समय अवधि 5 वर्ष चुनी मलतब ये कि अब मुझे 5 वर्ष तक प्रति महीने 500 रुपया जमा करने होंगे। और 5 वर्ष पुरे होने के बाद मुझे एक अच्छी खासी राशि मिलेगी वो ब्याज के साथ।

Always be patient (हमेशा धैर्य रखें)

निवेश की फील्ड में एक बात हमेशा कही जाती है ‘slow and steady wins the race‘ मतलब ये कि जो व्यक्ति धीमी और स्थिर दौड़ दौड़ता है वही जीतता है इसीलिए हमेशा धैर्य रखें।
Advantage-and-disadvantage-of-sip

SIP के फायदे (Benefits of SIP in hindi)

Convenience (सुविधा)

सबसे पहला फायदा ये है कि आप सिप का उपयोग करके मात्र 500 रुपए से निवेश की शुरुआत कर सकते है कुछ स्कीमों में आप 500 रुपए से कम से भी निवेश शुरू कर सकते हो। इसमें आप अनुशासित और चरणबद्ध तरीके से निवेश कर सकते हैं।

Return on Investment (निवेश की लागत पर लाभ)

निवेशक हमेशा दुविधा में रहते हैं कि निवेश करने का सही समय कौन-सा है या नहीं। इसमें निवेश करने का कोई अच्छा टाइम फिक्स नहीं किया गया है।
निवेश करने का सबसे अच्छा टाइम यही है कि आप जब तैयार हो तब निवेश करे। बाजार कम होने पर आप ज्यादा यूनिट को खरीद सकते है। इससे आपके द्वारा निवेश की गयी राशि के बढ़ने के चांस ज्यादा बढ़ जाते है। 

 Power of Compounding (कंपाउंडिंग की शक्ति)

एक बार निवेश करने की तुलना में आप चक्रवृद्धि ब्याज से लम्बे समय में ज्यादा लाभ प्राप्त कर सकते हो। जब आप जल्द निवेश करना शुरू करते है और उसे लम्बे समय तक जारी रखना चाहते है तब आपको कम्पाउंडिंग की शक्ति का फायदा प्राप्त होता है

सदैव अनुशासन का पालन करे

जैसा की नाम सुनकर लग रहा है कि एसआईपी में आपको सदैव व्यवस्थित ढंग से निवेश करना होता है जिससे अनुशासन विकसित होता है। SIP में हर महीने आपके खाते से एक निश्चित राशि काटी जाती है और आपके द्वारा चुने गए फंड में निवेश किया जाता है।

SIP के नुकसान (Disadvantage of SIP in hindi)

लगातार बढ़ रहे बाजारों में एसआईपी रिटर्न कम प्राप्त होता है:
उदाहरण के लिए कल्पना करे: आपके चाचा जी ने आपको और आपके दोस्त राम को 1-1 लाख रूपए आप दोनों के काम से खुश होकर दिए। अब आप लोग उस पैसे को बढ़ाना चाहते है
आपने पैसे को 12 महीने की मासिक क़िस्त से SIP का उपयोग करके निफ्टी बीईएस में निवेश करने का निर्णय लिया जबकि राम ने एक ही निफ्टी बीईएस में एकमुश्त निवेश के रूप में अपना पूरा पैसा लगाने का निर्णय लिया है।
अब क्या आप सोच सकते है कि 1 साल बाद किसका पैसा ज्यादा होगा? 1 साल बाद आपको 1.37 लाख रुपये प्राप्त होंगे जबकि राम को 1.72 लाख रुपये प्राप्त होंगे क्युकि राम ने सिर्फ एकमुश्त 25% अधिक लाभ प्राप्त किया।
जब आप एकमुश्त निवेश करते हैं तो आपका निवेश तुरंत कमाना शुरू कर देता है जब कि एसआईपी के मामले में सिर्फ आपका मासिक निवेश ही कमाना शुरू करता है न कि पूरी राशि। जब आप बाकि राशि जमा करते है तब वह कमाना शुरू करता है। इसके लिए आपको XIRR रिटर्न की गणना करने की जरुरत होती है
यदि आपके पास पहले से बचत किये गए पैसे नहीं है तो SIP या कोई भी इन्वेस्टमेंट आपके लिए नहीं है क्युकि निवेश पूर्व निर्धारित समयानुसार किया जाता है। 
यहाँ पर बचत किये गए पैसो का मतलब जितनी धनराशि आपने सिप में निवेश करने के लिए चुनी होती है। और आपके पैसे सदैव विश्वसनीय और नियमित होने चाहिए।

SIP investment in hindi? (SIP में कब निवेश करें?)

SIP में निवेश करने का सबसे अच्छा समय तब होता है जब आप तैयार हो। एसआईपी निवेश न्यूनतम जोखिम के साथ किसी भी समय शुरू किया जा सकता है, बशर्ते चुनी गई योजना निवेशक मतलब आपके लिए सही फिट हो।
SIP में निवेश करने के लिए सबसे पहले आपको एक अच्छी योजना और कम से कम जोखिम वाली योजना को चुनना होगा। किसी भी निवेशक को ये चुनना बहुत ही जरुरी होता है।
आप समय अपनी आवशकता के अनुसार चुने जो आपके लिए परफेक्ट हो। निवेश करने लिए सभी टाइम बेस्ट होते है लेकिन मेरी आपको राय होगी कि एक बार निवेश करने से पहले बाजार के बारे में थोड़ी जानकारी जरूर प्राप्त कर ले।

How to invest in SIP?  SIP में निवेश कैसे करें?

निवेश करने से पहले Top sip investment plans in India जरूर चेक करे 
चरण 1: www.fundsindia.com साइट पर जाये और अपना निःशुल्क खाता बनाएं
चरण 2: आवश्यक दस्तावेजों को ऑनलाइन जमा करें या स्कैन करें
चरण 3: एक म्यूचुअल फंड सलाहकार आपको कॉल/वीडियो कॉल  करेगा और आपकी व्यक्तिगत जरूरतों और जोखिम लेने की क्षमता के अनुसार सबसे अच्छी स्कीम चुनने में आपकी मदद करेगा
चरण 4: आपको आधार बेस्ड ई-केवाईसी करनी होगी और आपको पेन कार्ड की डिटेल्स भी देनी होगी यदि आप पैन कार्ड की डिटेल्स नहीं देते हैं तो साल में 50,000 रुपये से ज्यादा का निवेश नहीं कर पाएंगे। 
चरण 5: आपको अपनी बैंक डिटेल्स भी देनी होगी फिर ओटीपी के जरिए अकाउंट का वेरिफिकेशन कराना होगा।
चरण 6: एक राशि और समय अवधि का चयन करके एसआईपी निवेश की शुरुआत करे
चरण 7: Interactive online dashboard पर अपने निवेश को एक पीसी या स्मार्टफोन ऐप के माध्यम से ट्रैक करें
चरण 8: इसके बाद आपको कुछ भी नहीं करना है आपका एसआईपी शुरू हो जाएगा। आप बस अपने पैसे बढ़ते हुए देखो!
इस तरह आप समझ गए होंगे कि sip kaise start kare in hindi या what sip investment in Hindi

सिप (SIP) शुरू करने के लिए न्यूनतम और अधिकतम कितनी धनराशि चाहिए?

SIP में निवेश के लिए आपको न्यूनतम 500 की धनराशि की जरुरत होती है और अधिकतम जितनी धनराशि आप चाहे उतनी निवेश कर सकते है क्युकि अधिकतम धनराशि की कोई सीमा नहीं होती है कुछ स्कीमो में न्यूनतम राशि 500 रुपए से भी काम होती है।
जितनी भी राशि आपके द्वारा तय की जाती है कम से कम उतनी धनराशि आपके खाते में जरूर उपलब्ध होनी चाहिए। एसआईपी निवेश तिथियां के दिन चुनी गई राशि निवेशक के खाते से काट ली जाती है अधिकांश लोग महीनेदरमहीने के हिसाब से निवेश करते है

Is SIP a risky investment? क्या SIP एक जोखिम भरा निवेश है?

एसआईपी एक जोखिम भरा निवेश नहीं है, लेकिन शेयर मार्किट या म्यूचुअल फंड स्कीम जिसमें वे निवेश करते हैं, एक निवेशक की तुलना में उसमे अधिक जोखिम हो सकता है। क्युकि निवेश करने के लिए एसआईपी सबसे आसान और सुरक्षित तरीको में से एक हैं।
 
लेकिन ऐसा बिलकुल भी नहीं है कि इसमें जोखिम 100% खत्म हो जाता है लेकिन शेयर मार्किट या म्यूच्यूअल फण्ड में डायरेक्ट निवेश की तुलना में कम जोखिम होता है या के बराबर जोखिम होता है 

क्या होगा यदि मैं एसआईपी की किस्त को भूल जाउ

इससे आपके एसआईपी को कोई नुकसान नहीं होगा यदि आप एसआईपी की किस्त को भूल जाते है तो जिस बैंक से आप अपने SIP की क़िस्त भर रहे होते है उस बैंक द्वारा आपको दंडित किया जा सकता है। यदि आप बार बार अपनी एसआईपी की किस्त भूल जाते है सिर्फ तब ही एसआईपी फंड हाउस द्वारा आपके एसआईपी को समाप्त या रद्द किया जाता है।

यदि आप को पहले से पता चल जाता है कि मैं उस फला महीने में अपनी क़िस्त नहीं भर पाउँगा तो आप फंड हाउस / AMC को सूचित करके और विधिवत भरे हुए अनुरोध फॉर्म जमा करके SIP को रोक सकते हैं।

निष्कर्ष:-

आज हमने जाना कि सिप क्या है (SIP in Hindi), ये कैसे काम करता है, SIP से पैसे कैसे कमाए, एसआईपी के फायदे और नुकसान, इसमें कब निवेश करें,
SIP में निवेश कैसे करें, सिप (SIP) शुरू करने के लिए न्यूनतम और अधिकतम कितनी धनराशि चाहिए, क्या SIP एक जोखिम भरा निवेश है, क्या होगा यदि मैं एसआईपी की किस्त को भूल जाउ.
उम्मीद करते है कि आज कि ये जानकारी आपको पसंद आयी होगी।
यदि आपको हमारी ये जानकारी पसंद आयी है तो आप इसे शेयर जरूर करे। और कोई हमारे लिए सुझाव या प्रश्न हो तो हमे कमेंट करके जरूर बताये।

मेरा नाम रोहित शुक्ला है. मैं एक Blogger, Affiliate marketer और Rohitking.com का फाउंडर हु. यहाँ मैं आपको Tech, Blogging, Affiliate marketing, Stock market, SEO, Adsense, Social media marketing से जुड़ी जानकारी हिंदी भाषा में प्रदान करता हूँ.💥 🙏

4 thoughts on “SIP क्या है? इससे कैसे कमाए लाखो, पूरी जानकारी”

  1. Congrats for this superb blog. I thought that it was exceptionally instructive and intriguing as well. I have bookmarked your blog and will return later on. I need to urge you to proceed with that grand work, have an extraordinary daytime.

    Reply
  2. आपका ये आर्टिकल पढ़ कर मुझे बहुत सी नयी चीजे सिखने को मिली। आपका बहुत बहुत धन्यवाद

    Reply

Leave a Comment